पुत्र
सुपुत्रः कुल्दीपकः मुद्रण ई-मेल

सुपुत्रः कुल्दीपकः ।
उत्तम पुत्र कुल को दीप की भाँति प्रकाशित करता है ।

 
पुत्र्अगात्रस्य संस्पर्शः मुद्रण ई-मेल

पुत्र्अगात्रस्य संस्पर्शः चन्दनादतिरिच्यते ।
पुत्रके शरीर का स्पर्श चंदन के स्पर्श से भी ज़ादा सुखकारक है ।

 
अपुत्रता मनुष्याणां मुद्रण ई-मेल

अपुत्रता मनुष्याणां श्रेयसे न कुपुत्रता ।
कुपुत्रता से अपुत्रता ज़ादा अच्छी है ।

 
अपुत्रता मनुष्याणां मुद्रण ई-मेल

अपुत्रता मनुष्याणां श्रेयसे न कुपुत्रता ।
कुपुत्रता से अपुत्रता ज़ादा अच्छी है ।

 
ते पुत्रा ये पितुर्भक्ताः मुद्रण ई-मेल

ते पुत्रा ये पितुर्भक्ताः ।
जो पितृभक्त  हो वही पुत्र है ।

 
कोऽर्थः पुत्रेण जातेन मुद्रण ई-मेल

कोऽर्थः पुत्रेण जातेन यो न विद्वान न धार्मिकः ।
जो विद्वान और धार्मिक न हो एसे पुत्र के उत्पन्न होने से क्या अर्थ ?

 
प्रीणाति यः सुचरितैः मुद्रण ई-मेल

प्रीणाति यः सुचरितैः पितरौ स पुत्रः ।
जो अच्छे कृत्यों से मातापिता को खुश करता है वही पुत्र है ।

 
पुत्रस्नेहस्तु बलवान् मुद्रण ई-मेल

पुत्रस्नेहस्तु बलवान् ।
पुत्रस्नेह बलवान होता है ।

 
पुत्रस्पर्शात् सुखतरः मुद्रण ई-मेल

पुत्रस्पर्शात् सुखतरः स्पर्शो लोके न विद्यते ।
पुत्र के स्पर्श से ज़ादा सुखकारक अन्य कोई स्पर्श  दुनिया में नहीं है ।

 
अनपत्यता एकपुत्रत्वं मुद्रण ई-मेल

अनपत्यता एकपुत्रत्वं इत्याहुर्धर्मवादिनः ।
एक पुत्रवाला मानव अनपत्य अर्थात् निःसंतान समान होता है एसा धर्मवादि कहते हैं ।

 
<< प्रारंभ करना < पीछे 1 2 अगला > अंत >>

पृष्ठ 1 का 2

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in