कालः समाविषमकरः मुद्रण
कालः समाविषमकरः परिभवसंमानकारकः कालः ।
बालः करोति पुरुषं दातारं या चितारं च ॥

काल सम और विषम करनेवाला, अपमान और सन्मान करनेवाला है; काल हि मनुष्य को दातार और भिक्षुक बनाता है ।