म्रियमाणं मृतं बन्धुं मुद्रण ई-मेल
म्रियमाणं मृतं बन्धुं शोचन्ते परिदेविनः ।
आत्मनं नानुशोचन्ति कालेन कवलीकृतम् ॥

शोक करनेवालें, मरनेवाले या मरे हुए बंधु का शोक करते हैं; लेकिन काल का निवाला बने हुए, अपने लिए शोक नहीं करते (कर सकते) !

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in