स जीवति गुणा यस्य मुद्रण ई-मेल
स जीवति गुणा यस्य धर्मो यस्य जीवति ।
गुणधर्मविहीनो यो निष्फलं तस्य जीवितम् ॥

जो गुणवान है, धार्मिक है वही जीते हैं (या "जीये" कहे जाते हैं) । जो गुण और धर्म से रहित है उसका जीवन निष्फल है ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in