संसारविषवृक्षस्य द्वे मुद्रण
संसारविषवृक्षस्य द्वे फले ह्यमृतोपमे ।
काव्यामृतरसास्वादः सङ्गतिः सज्जनैः सह ॥

संसाररुप विषवृक्ष पर दो फल अमृत समान है; काव्यामृत का रसास्वाद, और सज्जनों का समागम ।