विद्या हि का ब्रह्मगतिप्रदा वा मुद्रण ई-मेल
विद्या हि का ब्रह्मगतिप्रदा वा
बोधो हि को यस्तु विमुक्तिहेतुः ।
को लाभ आत्मावगमो हि यो वै
जितं जगत्केन मनो हि येन ॥

विद्या कौन सी? जो ब्रह्मगति देती है वह ।
ज्ञान कौन सा ? जो विमुक्तिका कारण बने वह ।
लाभ कौन सा? आत्मा को पहचानना ।
जगत किसने जिता है ? जिस ने मन जिता है ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in