मन
मनः कपिरयं विश्र्वपरिभ्रमण मुद्रण ई-मेल
मनः कपिरयं विश्र्वपरिभ्रमण लम्पटः ।
नियन्त्रणीयो यत्नेन मुक्तिमिच्छुभिरात्मनः ॥

यहाँ मनरुपी बंदर विश्व का भ्रमण करने में लंपट है, मुक्ति की इच्छावाले मनुष्य को उसे यत्नपूर्वक काबू में रखना चाहिए ।

 
सुकरं मलधारित्वं मुद्रण ई-मेल
सुकरं मलधारित्वं सुकरं दुस्तपं तपः ।
सुकरोक्षनिरोधश्र्च दुष्करं चित्तरोधनम् ॥

मलधारित्व, दुष्कर तप, इन्द्रियों का निरोध करना ये सब आसान है, लेकिन चित्त का निरोध करना मुश्किल है ।

 
सुखाय दुःखाय च नैव देवाः मुद्रण ई-मेल
सुखाय दुःखाय च नैव देवाः
न चापि कालः सुह्र्दोडरयो वा ।
भवेत्परं मानसमेव जन्तोः
संसारचक्रभ्रमणैकहेतुः ॥

देव सुख या दुःख नहीं देते, काल भी मित्र या शत्रु नहीं है, लेकिन मानव का मन हि संसारचक्र में भ्रमण कराने का कारण है ।

 
ज्ञानं तीर्थं धृतिस्तीर्थं मुद्रण ई-मेल
ज्ञानं तीर्थं धृतिस्तीर्थं पुण्यं तीर्थमुदाह्यतं ।
तीर्थानामपि तत्तीर्थ विशुध्दि र्मनसः परा ॥

ज्ञान, धीरज और पुण्यको तीर्थ कहा है । लेकिन सब तीर्थ में विशुध्ध मन यहाँ श्रेष्ठ तीर्थ है ।

 
आत्मानं रथिनं विध्दि मुद्रण ई-मेल
आत्मानं रथिनं विध्दि शरीरं रथमेव तु ।
बिध्दिं तु सारथि विध्दि मनः प्रग्रहमेव च ॥

आत्मा को रथी, शरीर को रथ, बुद्धि को सारथी और मनको लगाम समज ।

 
वपुः कुब्जीभूतं गतिरति मुद्रण ई-मेल
वपुः कुब्जीभूतं गतिरति तथा यष्टिशरणा
विशीर्णा दन्ताली श्रवणविकलं श्रोत्रयुगलम् ।
शिरः शुक्लं चक्षुः तिमिरपटलैः आवृतमहो
मनो मे निर्लज्जं तदपि विषयेभ्यः स्पृहयति ॥

शरीर को खूंध निकल गयी, चलनेकी गति भी लकडी के सहारे हो गयी, दांत गिर गये, कान से सुनना कम हो गया, सर पर सफ़ेद बाल आ गये, आँख में मोतीबिंदु आ गया, फ़िर भी मेरा निर्लज्ज मन अभी भी विषयों की इच्छा रखता है ।

 
मन एव मनुष्याणां मुद्रण ई-मेल
मन एव मनुष्याणां कारणं बन्धमोक्षयोः ।
बन्धाय विषयासक्तं मुक्त्यै निर्विषयं स्मृतम् ॥

मन ही मानव के बंध और मोक्षका कारण है, जो वह विषयासक्त हो तो बंधन कराता है और निर्विषय हो तो मुक्ति दिलाता है ।

 
वशं मनो यस्य समाहितं स्यात् मुद्रण ई-मेल
वशं मनो यस्य समाहितं स्यात्
किं तस्य कार्य नियमै र्यमैश्र्च ।
हतं मनो यस्य च दुर्विकल्पैः
किं तस्य कार्य नियमै र्यमैश्र्च ॥

जिसका मन सुस्थिर है उसको यमनियमों का क्या काम? जिसका मन विकल्पों से भरा हो, उसको यम नियम से क्या लाभ ?

 
<< प्रारंभ करना < पीछे 1 2 अगला > अंत >>

पृष्ठ 2 का 2

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in