दयां विना देव गुरुक्रमार्चाः मुद्रण
दयां विना देव गुरुक्रमार्चाः
तपांसि सर्वेन्द्रिययन्त्रणानि
दानानि शास्त्राध्ययनानि सर्वं
सैन्यं गतस्वामि यथा तथैव ॥

देव और गुरुपूजा, तप, सर्वइंद्रियदमन, दान और शास्त्राध्ययन – ये सब क्रिया दया के बगैर वैसे हैं, जैसी कि सेनापति बगैर का सैन्य ।