अव्यापारेषु व्यापारं मुद्रण ई-मेल
अव्यापारेषु व्यापारं यो नरःकर्तुमिच्छति ।
स तत्र निधनं याति कीलोत्पाटीव वानरः ॥

जो इन्सान न करने का काम करता है उसका वहीं निधन होता है, जैसे कीला उखाडने वाला बंदर मर गया वैसे ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in