मुखं पद्मदलाकारं वाणी मुद्रण ई-मेल
मुखं पद्मदलाकारं वाणी चन्दनशीतला ।
ह्रदयं क्रोधसंयुक़्तं त्रिविधं धूर्तलक्षणम् ॥

मुख पद्मदल के आकार का, वाणी चंदन जैसी शीतल, और ह्रदय क्रोध से भरा हुआ – ये तीन धूर्त के लक्षण हैं ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in