बहूनां चैव सत्त्वानां मुद्रण ई-मेल
बहूनां चैव सत्त्वानां समवायो रिपुञ्जयः ।
वर्षधाराधरो मेघस्तृणैरपि निवार्यते ॥

अनेक वस्तुओं का समूह शत्रुओं पर विजय दिलानेवाला बनता है । अनराधार बरसात बरसानेवाले बादल का निवारण, घास के तिन्कों से किया जा सकता है ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in