रघुवंशम् पढ़कर मुझे अपने दस जमा दो के अध्ययन के दिन याद आ गए । अति सुन्दर प्रयास है ।