उच्चारण
वर्ण-माला मुद्रण ई-मेल

संस्कृत में हर अक्षर, स्वर और व्यंजन के संयोग से बनता है, जैसे कि याने क् (हलन्त) अधिक अ । स्वर सूर/लय सूचक है, और व्यंजन शृंगार सूचक ।   

संस्कृत वर्णॅ-माला में 13 स्वर, 33 व्यंजन और 2 स्वराश्रित ऐसे कुल मिलाकर के 49 वर्ण हैं । स्वर को अच् और ब्यंजन को हल् कहते हैं ।
अच् 14
हल् 33
स्वराश्रित 2

और पढ़ें ...
 
मात्रा मुद्रण ई-मेल

ह्रस्व/दीर्घ/प्लुत उच्चार

संस्कृत की अधिकतर सुप्रसिद्ध रचनाएँ पद्यमय है अर्थात् छंदबद्ध और गेय हैं । इस लिए यह समज लेना आवश्यक है कि इन रचनाओं को पढते या बोलते वक्त किन अक्षरों या वर्णों पर ज़ादा भार देना और किन पर कम । उच्चारण की इस न्यूनाधिकता को “मात्रा” द्वारा दर्शाया जाता है ।

और पढ़ें ...
 
अनुस्वार मुद्रण ई-मेल

अनुनासिक और अनुस्वार उच्चार


और पढ़ें ...
 
विसर्ग मुद्रण ई-मेल
विसर्ग उच्चार

जैसे आगे बताया गया है, विसर्ग यह अपने आप में कोई अलग वर्ण नहीं है; वह केवल स्वराश्रित है । विसर्ग का उच्चार विशिष्ट होने से उसे पूर्णतया शुद्ध लिखा नहीं जा सकता, क्यों कि विसर्ग अपने आप में हि किसी उच्चार का प्रतिक मात्र है ! किसी भाषातज्ज्ञ के द्वारा उसे प्रत्यक्ष सीख लेना ही जादा उपयुक्त होगा ।

और पढ़ें ...
 
संधि मुद्रण ई-मेल
सामान्य संधि नियम

जैसे कि पहले बताया गया है, संस्कृत में व्यंजन और स्वर के योग से ही अक्षर बनते हैं । संधि के विशेष नियम हम आगे देखेंगे, पर उसका सामान्य नियम यह है कि संस्कृत में व्यंजन और स्वर आमने सामने आते ही वे जुड जाते हैं;

और पढ़ें ...
 



[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in